कार्यक्षेत्र पर तकनीक की नज़र

यदि आप एक छोटे या मंझोले व्यापारी हैं, और अपने कार्यक्षेत्र में अपनी संपत्ति और अपने कर्मचारियों की सुरक्षा के लिये कुछ उपाय करना चाहते हैं, लेकिन इसके लिये अलग से स्टाफ कि नियुक्ति के लिए ना तो बजट है और ना ही आप उनपर पूरा भरोसा कर सकते हैं. ऐसे में आपकी मदद तकनीक कर सकती है. तकनीक ने आपको कार्यक्षेत्र सुरक्षा के लिए लिये बहुत से उपकरण उपलब्ध कराए हैं जिनमे कुछ निम्न हैं:

कार्यक्षेत्र पर तकनीक की नज़र
http://spyeyes.co.in/blog/

सी. सी. टी. वी. कैमरा :- 

सी. सी. टी. वी. कैमरा विज्ञान के द्वारा की गयी उन चुनिन्दा खोजों में से एक है जिसने ना सिर्फ जिन्दगी को आसन बनाया है बल्कि बढ़ते हुए अपराध के बीच सुरक्षा का भाव भी प्रदान करता है. सी. सी. टी. वी. कैमरा अपने आस पास होने वाली गतिविधियों को रिकॉर्ड करता है. इस रिकॉर्डिंग को आप लाइव भी देख सकते हैं और बाद में रिकार्डेड टेप भी.
इन कैमरों को लगाने से जहां एक और कर्मचारी ज्यादा तल्लीनता और ईमानदारी से काम करते हैं वहीं दूसरी और आस पास होने वाली अराजक गतिविधियों पर नजर रखी जा सकती है साथ ही अगर कोई घटना घटती है तो इसके फुटेज को सबूत के तौर पर उपयोग किया जा सकता है.

इलेक्ट्रॉनिक एन्ट्री सिस्टम :

कार्यक्षेत्र के अंदर कौन आ रहा है और कौन जा रहा है इस पर भी नियंत्रण रखना अनिवार्य है. सिक्योरिटी गार्ड से भी गलती हो सकती है इस लिए जरूरत होती है एक ऐसे सिस्टम की जो कम से कम गलती करे. इलेक्ट्रॉनिक एन्ट्री सिस्टम इसके लिये सबसे उपयुक्त साधन है. इलेक्ट्रॉनिक एन्ट्री सिस्टम दो प्रकार से काम करता है नंबर पैटर्न और बायोमेट्रिक पैटर्न. इस सिस्टम के होने से सिर्फ वो लोग ही अंदर या बाहर आ जा सकेंगे जिन्हें इसके लिए अनुमति होगी.

फायर अलार्म :

किसी भी कार्यक्षेत्र के लिए फायर अलार्म एक अति आवश्यक चीज है. व्यापार को जितना घाटा बाके सब बातों से होता है उससे कहीं ज्यादा घाटा आग लगने से होता है. क्योंकि बाकी बातें सिर्फ कुछ जगहों पर नुकसान पहुचाती हैं जबकि आग पूरे के पूरे बिज़नेस को ही तबाह कर देती है. फायर अलार्म लगा कर आपको आग लगने की जानकारी समय रहते ही मिल जाती है जिससे जान और माल की हानि को रोका जा सकता है.

विज्ञान ने बहुत से इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का तोहफ़ा दिया है सुरक्षा के लिए लेकिन इन सब का होना व्यर्थ है जब तक इन उपकरणों पर निगरानी के लिए कोई उचित व्यवस्था ना हो. क्योंकि ये उपकरण आपको सिर्फ संकेत दे सकते है लेकिन वास्तविक काम तो आपको ही करना होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>