सी.सी.टी.वी. कैमरा – सार्वजानिक स्थलों पर आवश्यक

सुरक्षा को लेकर देश के सरकार से लेकर आम आदमे तक सब ही चिन्तित रहते है और इसके लिए विभिन्न उपाय भी करते हैं. हमारी सजगता से लेकर तकनीक का उपयोग सुरक्षा के अनगिनत रास्ते खोलता है. तकनीक हमारी सुरक्षा में सहायक हो सकती है लेकिन पूर्ण सुरक्षा के लिये हमारी सजगता ही पहला हथियार होता है. तकनीक हमारे घर में सी.सी.टी.वी. कैमरा लगा सकती है लेकिन उसका सही इस्तेमाल हमे ही करना पड़ेगा. घर के मसले पर तो लोग फिर भी सजगता दिखाते हैं लेकिन जब बात सार्वजनिक स्थानों की उठती है तब सब ये कह कर कन्नी काट लेते हैं कि ये तो सरकार का काम है.

सार्वजनिक स्थानों की सुरक्षा की जिम्मेदारी तो सरकार की है लेकिन हम भी थोड़ी सी जागरूकता के साथ सरकार की मदद कर सकते हैं. सरकार ने संवेदनशील स्थानों पर सी.सी.टी.वी. कैमरा लगा रखे हैं ताकि वहाँ होने वाली गतिविधियों को कैमरे में कैद किया जा सके, लेकिन इसके साथ ही यदि जनता भी सरकार का साथ दे और आस पास होने वाली अराजक गतिविधियों की सूचना सम्बंधित अधिकारी को दे तो अधिकारियों को भी काम में आसानी होगी.

CCTV Camera - public places required
http://spyeyes.co.in/

क्या है सी.सी.टी.वी. कैमरा :

सी.सी.टी.वी. कैमरा एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जो अपनी रेंज में होने वाली गतिविधियों की वीडियो रिकॉर्डिंग करता है. इस कैमरे से आप इसकी निर्धारित रेंज तक की सारी गतिविधियाँ स्क्रीन पर देख सकते है साथ ही इसके रिकार्डेड फुटेज को बाद में भी देखा जा सकता है.

सी.सी.टी.वी. कैमरा के प्रकार :

सी.सी.टी.वी. कैमरा मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं:
1. वायर्ड सी.सी.टी.वी. कैमरा

2. नॉन वायर्ड सी.सी.टी.वी. कैमरा

वायर्ड सी.सी.टी.वी. कैमरा ऐसी जगह पर लगाया जाता है जहाँ से उसके रिसीविंग मॉनिटर तक कैमरे का तार लाया जा सके, क्योंकि ये कैमरे रिसीवर से तार के द्वारा जुड़े होते हैं. जबकि नॉन वायर्ड सी.सी.टी.वी. कैमरा  को कहीं भी लगाया जा सकता है, ये सिग्नल के माध्यम से संकेत प्राप्त करते हैं और इनको इनस्टॉल करने के लिए रिसीवर और कैमरे का तारों से जुड़ा होना आवश्यक नहीं है.

सिर्फ सी.सी.टी.वी. कैमरे लगवाने से सुरक्षा नहीं हो सकती इसके लिए आवश्यक है कि इन कैमरों को लगातार मॉनिटर किया जाए और होने वाली हर एक गतिविधि पर नजर रखी जाए, ताकि वहाँ होने वाली किसी भी असमान्य गतिविधि पर तुरंत कार्यवाही की जा सके और किसी दुर्घटनाओं को होने से रोका जा सके.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>